Sunday, September 22, 2019
Home > MYQA World > Saudi Arabia ने बाहरी कामगारों के Dependents पर भारी शुल्क लगाया – कइयों ने भारत का रुख किया
MYQA Worldख़बरेंहिंदी

Saudi Arabia ने बाहरी कामगारों के Dependents पर भारी शुल्क लगाया – कइयों ने भारत का रुख किया

saudization of jobs

मध्य पूर्व से छपने वाले अख़बारों के अनुसार साउदी अरब में कार्यरत कई बाहरी कामगार अपने dependents (आश्रितों) जैसे बच्चे, पत्नी, माँ, बाप को देश वापस भेज रहे हैं.  इसका सबसे बड़ा कारण है साउदी का नया शुल्क जो वहां की सरकार ने बाहरी कामगारों के आश्रितों पर लगाया है।

Dependent Fee का नया क़ानून July 2017 से लागू हुआ है. ग़ौरतलब है की साउदी सरकार वहां के मूलनिवासियों में व्याप्त बेरोज़गारी को कम करना चाहती है.  Saudi government बेरोज़गारी की दर को 2020 तक 9 % और 2030 तक 7 % तक लाना चाहती है.  साउदी सरकार ने 2020 तक लगभग 12 लाख बाहरी (Foreign) कामगारों (Workers) को हटा कर उनकी जगह सऊदी मूलनिवासियों को Job देने का target रखा है.  2017 में प्रति आश्रित प्रतिमाह शुल्क 100 Saudi  Riyal  (Rs. 21,000 सालाना) निर्धारित किया गया था.  इस शुल्क को 2018 में बढाकर 200 Saudi Riyal, 2019  में 300 और 2020 तक 400 Saudi Riyal Per Month करने का निर्णय लिया गया है.

Saudi Arabi Dependent Tax

वहीं दूसरी तरफ सऊदी वित्तमंत्रालय ने एक घोषणा की है कि अब वहां की Private Companies को हर बाहरी कामगार (Employee) पर Saudi Riyal 300-400 Per Month का शुल्क चुकाना होगा.  सऊदी अरब के ज़्यादातर स्कूलों में परीक्षायें संपन्न हो चुकी हैं.  कई भारतीय स्कूली बच्चों ने अपने परिजनों को यह बताया है कि उनकी क्लास के लगभग 50 % बच्चे 2018 की गर्मियों की छुट्टियों के बाद सऊदी वापस नहीं आएंगे ताकि वह dependent fee से बच सकें.  इसका नतीजा यह है की बड़ी संख्या में भारतीय कामगारों के आश्रित देश का रुख कर रहें हैं.  कुछ समझदार लोग पिछले साल ही अपने बच्चों और पत्नी को वापस भारत भेज चुके हैं.  इसको लेकर भारतीय कामगारों में बहुत रोष और गुस्सा व्याप्त है.